कारगिल विजय दिवस

युवा नेता मोहित मदनलाल ग्रोवर ने कारगिल विजय दिवस की 20वीं वर्षगांठ पर शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमारा देश कारगिल विजय दिवस की 20वीं वर्षगांठ मना रहा है। 20 वर्ष पूर्व कारगिल में पाकिस्तान को हराकर हमारे वीर जवानों ने यह साबित कर दिया था कि देश के दुश्मनों को वे किसी कीमत पर छोडऩे वाले नहीं हैं। हमारे वीर सैनिकों ने अपने पराक्रम से पाकिस्तान को युद्ध में परास्त कर पूरे विश्व को स्वाभिमानी और साहसी होने का संदेश दिया था। मैं कारगिल विजय का हिस्सा रहे सभी सैनिकों को नमन करता हूं। मोहित मदनलाल ग्रोवर ने कहा कि कारगिल की पहाडिय़ों पर तिरंगा लहराने वाले जीवित जवानों को भी देश भर से दुआ और बधाईयां मिल रही हैं। सारा देश उन सभी शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करता है जिन्होंने विपरीत परिस्थितियों के बावजूद बहादुरी से लड़ते हुए भारत के सम्मान की रक्षा की। उनका अदम्य साहस एवं बलिदान प्रेरणास्पद है। कारगिल जम्मू-कश्मीर का अभिन्न हिस्सा है। यह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से एलओसी के करीब 10 किलोमीटर अंदर भारतीय सीमा में स्थित है। वर्ष 1999 में पाकिस्तानी घुसपैठियों ने धोखे से कारगिल की चोटियों पर कब्जा कर लिया था। मई से जुलाई 1999 तक भारतीय सेना ने ऑपरेशन विजय चलाकर न सिर्फ घुसपैठियों को यहां से भागने पर मजबूर कर दिया, बल्कि पूरी दुनिया में पाकिस्तान को बेनकाब भी कर दिया। करीब 2 माह तक चले इस हमारे देश के कई सैनिक शहीद हुए थे और 26 जुलाई 1999 में भारत ने कारगिल की जंग जीत ली थी, तभी से इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूम में मनाया जा रहा है। आज हम अपने बहादुर सैनिकों के साहसिक कार्यों को याद करते हैं, उनकी जीत का जश्न मना रहे हैं और अपने महान राष्ट्र की सेवा में खुद को समर्पित करने के अपने संकल्प को दोहराते हैं। मोहित मदनलाल ग्रोवर ने कहा कि कारगिल विजय दिवस पर मां भारती के सभी वीर सपूतों का मैं हृदय से वंदन करता हूं। यह दिवस हमें अपने सैनिकों के साहस, शौर्य और समर्पण की याद दिलाता है। इस अवसर पर उन पराक्रमी योद्धाओं को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि, जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा में अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया। मोहित मदनलाल ग्रोवर ने आतंकवाद पर कटाक्ष करते हुए कहा कि आतंकवााद पूरे विश्व के लिए एक बड़ी समस्या है। आतंकवाद की मूल जड़ पाकिस्तान है, जहां से पूरे विश्व में अशांति फैलाई जाती है। भारत देश यदि शांति की बात कर सकता है तो वह मुंहतोड़ जबाव भी देना जानता है। देश का हर सैनिक और हर युवा अपने देश की रक्षा के लिए प्रयत्नशील है। हमारे देश की सबसे बड़ी ताकत हमारा युवा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.