बेटियां घर की नहीं बल्कि राष्ट्र के लिए भी एक बहुत बड़ा गर्व

हर वर्ष की भांति बसंत पंचमी के अवसर पर श्री गीता भवन, न्यू कॉलोनी में 11 असहाय, साधनहीन कन्याओं का सामूहिक विवाह किया गया। इस समारोह में मोहित मदनलाल ग्रोवर ने मुख्य तौर पर शिरकत की। उन्होंने संस्था द्वारा किये जा रहे सराहनीय कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस प्रकार के आयोजन करवाकर संस्था न केवल सामाजिक दायित्वों का निर्वहन कर रही है बल्कि ऐसे आयोजनों से समाज में सद्भावपूर्ण माहौल और आपसी भाईचारा बढ़ता है। उन्होंने कहा कि बेटियां घर की नहीं बल्कि राष्ट्र के लिए भी एक बहुत बड़ा गर्व है। श्री ग्रोवर ने कहा कि लड़कियों को बोझ नहीं समझना चाहिए, उन्हें अच्छी शिक्षा दिलवाना और आत्मनिर्भर बनाना हर परिवार और समाज की जिम्मेदारी है।
मोहित ग्रोवर ने परिणय सूत्र में बंधे जोड़ों के सुखी भविष्य, खुशहाल जीवन की मंगल कामना की। इस अवसर पर चौधरी धर्मबीर गाबा, सुरेंद्र खुल्लर, बी. डी चुटानी, कवरभान वधवा, बालकृष्ण खत्री, देवराज आहूजा, मनीष खुल्लर, ओमप्रकाश गाबा, डॉ अशोक तनेजा, यदवंश चुघ और अन्य सदस्यों ने अपनी अहम भूमिका निभाई। बारात में सैंकड़ों की संख्या में कई गणमाण्य लोगों समेत शहरवासी शामिल हुए। विवाह के बाद नवदंपति को घरेलू जरूरत का आवश्यक सामान भेंट स्वरूप दिया गया।

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।

Open chat
1
Hi, How Can I Help You.?