बालिकाओं को मिलें समान अवसर, सक्षम एवं सुरक्षित माहौल- मोहित मदनलाल ग्रोवर

बालिकाओं को मिलें समान अवसर, सक्षम एवं सुरक्षित माहौल- मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम। युवा समासजेवी मोहित मदनलाल ग्रोवर द्वारा न्यू रेलवे रोड स्थित कार्यालय में शुक्रवार को राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर बालिका शिक्षा व उनके उत्थान के विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया, श्री ग्रोवर ने विचार गोष्ठी में न केवल राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का महत्व बताया, बल्कि बालिकाओं को परिवार व समाज की धरोहर बताते हुए उन्हें हरसंभव सहयोग करने का आश्वासन भी दिया।
श्री ग्रोवर ने कहा कि राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का उद्देश्य बालिकाओं को हर मामले में अधिक से अधिक अवसर प्रदान करना और उन्हें सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराना है। इसके साथ ही वर्षों से बालिकाओं के साथ होने वाले भेदभाव को लेकर लोगों को जागरुक करना भी इसका उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि यह दिवस इसलिए मनाया जाता है ताकि समाज में बालिकाओं की स्थिति बेहतर हो सके और उन्हें हर वह मौका और सुविधाएं मिलें जो लडक़ों को बिना कहे ही मिल जाते हैं। साथ ही उन्हें निर्णय लेने का अधिकार हो। चाहे ये निर्णय घर के बारे में हो या फिर निजी जीवन के ही क्यों न हों। इस प्रकार के कार्यक्रम मनाने की सबसे बड़ी वजह यही है कि लोगों की उस सोच को बदला जा सके जहां लडक़े पहले और बालिकाएं बाद में आती हैं। सशक्त समाज के निर्माण के लिए बालिकाओं की बराबर की भागीदारी बेहद जरूरी है।
श्री ग्रोवर ने कहा कि बालिकाओं के शिक्षित होने पर ही सामजिक उत्थान की सोच को बल मिलेगा। सर्व समाज के प्रतिनिधियों को इस दिशा में प्रयास करने चाहिए। समाज में बालिकाओं की तुलना में लडक़ों की शिक्षा, पालन-पोषण पर विशेष ध्यान दिया जाता है, जो अनुचित है। एक बालिका बड़ी होकर, विभिन्न रूपों में समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करती है। उसके शिक्षित होने पर न केवल दो परिवार शिक्षित होंगे, बल्कि संस्कारवान भी बनेेंगे।
उन्होंने कार्यक्रम में शामिल लोगों से आग्रह किया कि समाज व परिवार के उत्थान के लिए अपनी बेटियों को उच्च से उच्च शिक्षा दिलाएं। कन्या भ्रूण हत्या जैसे महापाप को जड़ से मिटाने के लिए सभी को एकजुट होकर आगे आना होगा।

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।